सिल्ली के चेक डैम में अनियमितता, जंगल के अवैध वेसाइज पत्थरों का हो रहा  इस्तेमाल

0
216
  • अधिक अनुपात में सीमेंट बालू का मिश्रण

अनूप कुमार, सिल्ली। सिल्ली-महिलौंग वन प्रक्षेत्र अंतर्गत सिल्ली के कुलसूद वन नाला में वन विभाग के तत्वावधान में लाखों की लागत से निर्माण चेकडैम में भारी अनियमितता बरती जा रही है। लाखों रुपए की योजना में जंगल के ही अवैध उत्खनन वेसाइज पत्थरों का इस्तेमाल धड़ल्ले से किया जा रहा है इतना ही नहीं ग्रामीणों ने बताया  कि अधिक अनुपात में सीमेंट व बालू का मिश्रण किया जा रहा है। इस संबंध में वनपाल अमर पासवान से चेक डैम निर्माण में जंगल के अवैध बेसाइज पत्थरों का इस्तेमाल को लेकर पूछे जाने पर गोल गोल जवाब देते हुए बताया कि मैं 15 दिन से छुट्टी में हूं और इस संबंध में बताने के लिए ऑथराइज भी नहीं हूं। उन्होंने कहा कि रेंजर से बात कर लीजिए है। उनसे जब जंगल के अवैध बेसाइज पत्थरों से चेक डैम का  निर्माण किया जाना वैध या अवैध है यह पूछे जाने पर मजाक के तौर पर कहा एक ही केस में लालू यादव को जेल और डॉक्टर जगन्नाथ मिश्रा को बेल यानि उनका कहने का तात्पर्य था कि विभाग बना रहा है तो वैध अन्य बनाये तो अवैध। वही महिलौंग वन प्रक्षेत्र पदाधिकारी राजेश कुमार से इस संबंध में उनसे पूछे जाने के लिए फोन पर संपर्क किया गया तो उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया। सिल्ली में वन विभाग में गड़बड़ी कोई नयी  बात नहीं, वर्ष 2012 तक जो कार्य पूरे होने थे, वह अधूरे थे।  इन कार्यों पर 4.25 करोड़ रुपए का प्रावधान था तत्कालीन वन क्षेत्र पदाधिकारी ने बिना अनुमति के 12.42 लाख की लागत से सिल्ली के अंबेडकर पार्क बना दिया था। 2011-12 के दौरान हुई गड़बड़ी की संचिका वर्षों से खोजी जा रही है लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। करीब 40 लाख की लागत से लौग हट बना है है जो उद्घाटन से पहले ही गिर गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here