सच के साथ

Satellite News Channel

Friday, September 30, 2022
RAFTAAR MEDIA BREAKING NEWS

खस्सी टूर्नामेंट से लेकर के वर्ल्ड कप तक का सफर तय करती गुमला की बेटी सलीमा

Must read

अजित सोनी, गुमला। झारखंड राज्य के गुमला जिले की बेटी ने अपने  गुमला जिला और गांव का नाम रोशन किया है। फीफाअंडर-17 महिला फुटबॉल वर्ल्ड कप के दौरान देश का प्रतिनिधित्व कर गुमला जिला के साथ साथ झारखण्ड राज्य का भी मान बढ़ाएंगी। वहीं 7 इस साल महिला विश्व कप 2022 के लिए टीम का चयन हुआ है, जिसमें चयनित टीम में तीन खिलाड़ी गुमला जिला की हैं।  

बता दें की फीफा (FIFA) ने अंडर-17 महिला विश्व कप 2022 (U-17 Women World Cup) का आयोजन 11 से 30 अक्टूबर तक भारत में करने की घोषणा पहले ही कर दी है। अंडर-17 भारतीय महिला फुटबॉल टीम की घोषणा 23 अप्रैल को हुई थी। जिसमें टीम में झारखंड की सात खिलाड़ियों का चयन हुआ है। जिनमे  सलीना कुमारी, सुधा अंकिता तिर्की, और अस्टम उरांव गुमला जिला से शामिल हैं।

वहीं  भारतीय फुटबॉल संघ ने टीम की घोषणा करते हुए, प्रशिक्षण कैंप भी शुरू कर दिया है। यह प्रशिक्षण कैंप 23 अप्रैल से 31 मई तक जमशेदपुर में चलेगा। अभी टीम में कुल 33 खिलाड़ियों का चयन हुआ है। प्रशिक्षण कैंप के दौरान बेस्ट 11 का चयन होगा, जो वल्ड कप खेलने के लिए मैदान में उतरेगी। गुमला जिला के सुदूरवर्ती घाघरा प्रखंड के बेती पतराटोली गांव की बेटी सलीमा कुमारी जिसमें बचपन से ही फुटबॉल के प्रति खेलने का जुनून था, और गांव में खस्सी टूर्नामेंट खेलते हुए वर्ल्ड कप तक का सफर उसने पूरा कर दिखाया। सलीमा के पिता करमा उरांव गांव में रहकर खेती बारी करते हैं, जिससे उनका घर चलता है। सलीमा कुमारी ने बताया कि गांव में वह फुटबॉल खेलती थी। उस दौरान कोच पौलुस सर गांव आए थे, और सलीमा को फुटबॉल खेलता हुआ देखकर उसे गुमला के संत मात्रिक महाविद्यालय प्रशिक्षण  केंद्र में ले जाकर उसका नामांकन करवाया। फिर वहीं से उसकी रेगुलर फुटबॉल का अभ्यास कराया गया। उसी दौरान  सलीमा ने नेशनल कप के लिए राजस्थान अनुराचल प्रदेश बिहार मुंबई उड़ीसा में फुटबॉल खेल कर अपना परचम लहराया जहां उसका सेलेक्शन फीफा वर्ल्ड कप के लिए हुआ। सलीमा के चयन से पूरा गुमला जिला गर्व महसूस कर रहा है । कल तक जो बेटी खस्सी फुटबॉल टूर्नामेंट खेलती थी, आज वह राज्य स्तर से लेकर के अंतरराष्ट्रीय स्तर तक अपना पहचान बना चुकी है।

वही सलीमा कुमारी की कोच वीना केरकेट्टा ने बताया कि सलीमा शुरू से ही फुटबॉल खेलती आई है। जिस कारण गांव से सलीमा को सरकार के द्वारा संचालित फुटबाल प्रशिक्षण संस्थान में एडमिशन करवाया गया और यहां अभ्यास करते हुए उसने कई जगहों पर जाकर के नेशनल कप में खेल कर उसमें अपना परचम लहराया। उस दौरान उसका चयन फीफा वर्ल्ड कप के लिए हुआ। उसकी कड़ी मेहनत के बदौलत आज वह छोटे से गांव से निकलकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपना पहचान बना रही है। वही सलीमा की मां की माने तो वह बहुत गरीब है उस पर भी सलीमा को फुटबॉल खेलने के लिए पुरजोर कोशिश करवाया और आज मुकाम हासिल किया है। इसे बहुत खुशी हुई है वही सलीमा की बहन ने बताया की  सरकार से मांग की कि सलीमा को हर स्तर पर खेलने के लिए बढ़ावा देने की बात कही।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article