सच के साथ

Satellite News Channel

Friday, September 30, 2022
RAFTAAR MEDIA BREAKING NEWS

हम सबकी बराबरी, समता, समानता, संपन्नता और बेहतरी की बात करते है : तेजस्वी

Must read

पटना। बापू सभागार में भगवान परशुराम जयंती, अक्षय तृतीया और ईद की सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ देते हुए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने  कहा कि जब हम समाजवाद और सामाजिक न्याय की बात करते है तो यह सबको समाहित करने और साथ लेकर चलने का सिद्धांत, नीति और विचार हैं। सामाजिक न्याय का का मतलब किसी को छोड़ना नहीं बल्कि सबको साथ लेकर आगे बढ़ने का है।

उन्होंने कहा कि अगर हम सबकी बराबरी, समता, समानता, संपन्नता  और बेहतरी की बात करते है तो क्या यह गलत है? नहीं ना?? क्या ग़रीबों और वंचितों को मुख्यधारा में लाने के लिए संघर्ष करना गलत है? गरीबी हर जाति धर्म में है। क्या गरीबी-बेरोजगारी हटाना जातिवाद है? क्या गरीबी हटाना देशभक्ति और राष्ट्रवाद नहीं है?

बताइए ज़रा, बिहार के पास किस चीज़ की कमी है? हमारे पास मेधा है? प्रतिभा है? मेहनत है? सबसे अधिक मानव संसाधन है। लेकिन कमी सिर्फ़ अविश्वास और संवाद की है। उन्होंने कहा कि अगर सब जाति/धर्म के लोग ठान लें कि बिहार को नंबर-1 बनाना है तो किसी माई के लाल में दम नहीं कि बिहार और बिहारियों को रोक दें। याद रखिए- एकता में ही शक्ति है। हमारी कोशिश है कि सब भाई साथ चले और बिहार को भी अन्य राज्यों की तरह विकसित बनायें। ब्राह्मण-भूमिहार समाज जागरूक है। ज्ञान और शिक्षा का प्रतिबिंब है। देश-प्रदेश में इतनी महंगाई, बेरोज़गारी और गरीबी व्याप्त है। आप लोग भी बीड़ा उठा लीजिए – यक़ीन मानिए सफलता मिलेगी।

उन्होंने कहा कि देश में एक विचित्र क़िस्म का नैरटिव गढ़ा जा रहा है कि हिंदू खतरे में है। बताइए भला? हमारी कितने पुरखे और पुश्तें इस मिट्टी में रची और बसी है और ये हमें खतरे में बता रहे है। खतरे में इनकी कुर्सी है। पीएम, गृहमंत्री, तीनों सेनाओं के अध्यक्ष, राष्ट्रपति, सभी अर्ध सैनिक बलों के प्रमुख, सब हिंदू है लेकिन फिर भी खतरे में है। भाजपा और सांप्रदायिक सोच के लोग असल मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाना चाहते है। लेकिन आप लोगों को मुद्दों पर टिके रहना है।

उन्होंने कहा कि हम समावेशी, सकारात्मक और प्रगतिशील राजनीति करते है। जिसमें सबका सहयोग और हिस्सेदारी रहे। हम सकारात्मक प्रगति  और वैज्ञानिक सोच के व्यक्ति हैं।  हम सबने साथ बढ़ना है अन्यथा बिहार पीछे रह जाएगा। मैं चाहता हूँ कि हम सब एकता और ज़िम्मेवारी के साथ बिहार को आगे बढ़ाए। आपका साथ रहा तो हम आर्थिक न्याय करेंगे। आर्थिक न्याय में सबका भला निहित है। जो पीछे छूट गए है उन सभी को साथ लेकर अब आगे बढ़ने का समय है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article